जब 10वां विकेट लेने के लिए तरस गया था भारत, इन दो इंग्लिश बल्लेबाजों ने जोड़े थे 198 रन

भारतीय टीम इन दिनों इंग्लैंड दौरे पर है। वहां उन्होंने टी-20 सीरीज में काफी अच्छा प्रदर्शन कर सीरीज अपने नाम की और आज से इंग्लैंड के खिलाफ उन्हें वनडे सीरीज खेलनी है। तीन मैच की वनडे सीरीज के बाद भारत को 5 टेस्ट का मुश्किल पड़ाव भी पार करना है। 

हम 5 टेस्ट मैच की श्रंखला को भारत के लिए मुश्किल पड़ाव इसलिए कह रहे हैं क्योंकि पिछली बार जब भारत ने इंग्लैंड में 5 टेस्ट मैच की टेस्ट सीरीज खेली थी तो भारत ने वो सीरीज 3-1 से हारी थी। उसी सीरीज के पहले मैच में इंग्लैंड के जो रूट और जेम्स एंडरसन ने ऐसा रिकॉर्ड बनाया था जिसे कोई चाह कर भी नहीं भूल पाएगा।

नॉटिंघम में खेले गए पहले टेस्ट में भारत की पहली पारी 457 रनों पर सिमट गई। भारत की तरफ से मुरली विजय ने शानदार 146 रनों की पारी खेली थी। उसके अलावा भुवनेश्वर कुमार और मोहम्मद शमी ने भी अर्धशतक जड़े थे।

इसके बाद बल्लेबाजी करे उतरी इंग्लैंड की टीम की शरुआत अच्छी नहीं रही। कप्तान एलेस्टर कुक चौथे ओवर में ही पांच रन बनाकर पवेलियन लौट गए थे। इसके बाद इंग्लैंड की बल्लेबाज ज्यादा समय तक क्रीज पर नहीं टिक सके। उस मैच में इकलौते जो रूट ही इंग्लैंड के ऐसे बल्लेबाज थे जो भारतीय गेंदबाजी का डट कर सामना कर रहे थे।

एक समय ऐसा आया जब इंग्लैंड के 9 विकेट 298 रनों पर गिर गए थे। इसके बाद भारतीय टीम ने जरूर मैच जीतने के बारे में सोचा होगा क्योंकि उस समय भारत के पास 159 रनों की बढ़त थी। अगर वो आखिरी विकेट 20-30 रनों के अंदर भी गिरा देते तो भारत को अच्छी खासी बढ़त मिल जाती।

लेकिन 11 नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे जेम्स एंडरसन ने भारत के इन सभी सपनों पर पानी फेर दिया। एंडरसन ने जो रूट के साथ मिलकर ना अपनी टीम को संभाला बल्कि अपने अंतरराष्ट्रीट क्रिकेट का पहले अर्धशतक भी जड़ा। एंडरसन ने रूट के साथ मिलकर 10 विकेट के लिए रिकॉर्ड पार्टनरशिप भी की। उस मैच में इन दोनों बल्लेबाजों के बीच 198 रनों की साझेदारी हुई जो एक वर्ल्ड रिकॉर्ड है। इससे पहले यह रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के फिलिप ह्यूज और एश्टन अगर के नाम था।

496 रनों के स्कोर तक टीम को पहुंचाने के बाद एंडरसन भुवनेश्वर का शिकार बने, लेकिन तब तक वह अपनी टीम को 39 रनों की बढ़त दिला चुके थे। एक समय ऐसा लग रहा था कि भारत के पास 100 से ज्यादा की बढ़त होगी, लेकिन इन दोनों की पार्टनरशिप ने इंग्लैंड को बढ़त दिलाई। उस मैच में रूट ने नाबाद 154 रन बनाए थे, वहीं एंडरसन ने शानदार 81 रनों की पारी खेली थी।

इसके अलावा उस मैच में एक रिकॉर्ड बना। पहली इनिंग में भारत के लिए भुवनेश्वर कुमार और मोहम्मद शमी की जोड़ी ने 10वें विकेट के लिए 111 रन जोड़ थे और दूसरी पारी में जो रूट और एंडरसन ने 10वें विकेट के लिए 198 रन बनाए थे। इन दोनों जोड़ियों ने 10वें विकेट के लिए मिलकर 309 रन जोड़े जो किसी भी टेस्ट मैच में 10 विकेट के लिए जोड़े गए सबसे ज्यादा रन है। हालांकि यह मैच ड्रॉ रहा था।