क्रिकेट इतिहास के सबसे रोमांचक टेस्ट मैच, जो ड्रॉ रहे

विश्व क्रिकेट जगत में टेस्ट को बाकी प्रारूपों से अधिक तवज्जो दी जाती है. सही मायने में टेस्ट को क्रिकेट का सबसे मजबूत पक्ष माना जाता है. इस प्रारूप में हर एक खिलाड़ी को कई कड़ी चुनौतियों से पार पाना होता है. इसके बाद ही उनकी काबिलियत, कुशलता, द्रणता सामने आती है, लेकिन टी20 क्रिकेट आने के बाद अब टेस्ट अपना रुतबा खोता हुआ नज़र आ रहा है.

टेस्ट एक ऐसा प्रारूप है, जो पांच दिन तक खेला जाता है. कभी-कभी टीमें पांच दिन से पहले ही जीत दर्ज कर लेती हैं तो कई बार मुकाबला पांच दिन तक चलता है और ड्रॉ के रूप में समाप्त होता है. उनमें कुछ टेस्ट ऐसे हैं, जो काफी रोमांचक तरीके से ड्रॉ हुए. आज हम उन टेस्ट मुकाबलों की बात करेंगे जो काफी रोमांचक रहे, लेकिन ड्रॉ हुए:

भारत बनाम वेस्टइंडीज, नवम्बर 2011, वानखेड़े स्टेडियम

भारत और वेस्टइंडीज के बीच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेला ये मुकाबले बेहद रोमांचक रहा. इस मैच की सबसे दिलचस्प बात ये रही कि दोनों टीमों का स्कोर बराबर रहा. ये सीरीज का तीसरा मुकाबला था. इससे पहले भारत ने 2-0 से अजय बढ़त बनाई हुई थी, लेकिन तीसरे मैच में भारत सीरीज में मेहमानों का 3-0 से सूपड़ा साफ़ करने से चूक गया.

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड:

वेस्टइंडीज: पहली पारी 590/10 एवं दूसरी पारी 134/10

भारत: पहली पारी 482/10 एवं दूसरी पारी 249/9 (पारी घोषित)

मैन ऑफ़ द मैच- रविचंद्रन अश्विन (भारत)

दक्षिण अफ्रीका बनाम भारत, दिसम्बर 2013, जोहांसबर्ग

18 दिसम्बर से 22 दिसम्बर तक दक्षिण अफ्रीका और भारत के बीच खेले गए इस टेस्ट में इतिहास बनने से सिर्फ कुछ कदम दूर रहा. इस मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका टेस्ट क्रिकेट का सबसे बड़ा लक्ष्य हासिल करने से मात्र 8 रन से चूका गया. सीरीज के पहले टेस्ट में भारत ने मेजबानों के सामने 458 रन का विशाल लक्ष्य रखा था. दक्षिण अफ्रीका ने अपनी चौथी पारी में 450/7 का स्कोर बनाया. हालांकि डेल स्टेन ने मैच की आखिरी गेंद पर छक्का जड़ा, लेकिन वो अपनी टीम ऐतिहासिक जीत नहीं दिला पाए. इस मैच में भारत के विराट कोहली ने शानदार शतक जड़ा, लेकिन दूसरी पारी में दक्षिण अफ़्रीकी बल्लेबाजों फाफ डू प्लेसी और एबी डी विलियर्स के बल्ले से भी शतक निकले, जिनकी बदौलत मेजबानों ने मैच को ड्रॉ कराया.

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड:

भारत- पहली पारी 280/10 एवं दूसरी पारी- 421/10

दक्षिण अफ्रीका- पहली पारी 244/10 एवं दूसरी पारी 450/7

मैन ऑफ़ द मैच: विराट कोहली

ज़िम्बाबवे बनाम इंग्लैंड, दिसम्बर 1996, बुलावायो:

दोनों टीमों के बीच सीरीज का ये पहला टेस्ट मैच था. ज़िम्बाबवे ने पहले बल्लेबाजी करते हुए मेहमानों के खिलाफ 376 रन का सम्मानजनक स्कोर खड़ा किया. ज़िम्बाबवे की तरफ से विकेटकीपर बल्लेबाज एंडी फ्लावर ने शानदार 112 रन बनाए. इसके बाद इंग्लैंड ने नासिर हुसैन (113) एवं जेपी क्रोले (112) के शतकों की मदद से अपनी पहली पारी में 406 रन बनाए. ज़िम्बाबवे ने दूसरी पारी में 234 का स्कोर खड़ा किया. अंग्रेजी टीम ने अपनी आखिरी पारी में 204/6 का स्कोर बनाया. साथ ही दोनों टीमों का स्कोर बराबर रहा और मैच ड्रॉ के रूप में समाप्त हुआ. इंग्लैंड की दूसरी पारी में सलामी बल्लेबाज निक नाईट (96) की शानदार पारी की बदौलत मैच को ड्रॉ कराया. इसके लिए उन्हें मैन ऑफ़ द मैच भी घोषित किया गया.

मैच का संक्षिप्त स्कोरकार्ड:

ज़िम्बाब्वे- पहली पारी- 376/10 एवं दूसरी पारी 234/10

इंग्लैंड- पहली पारी- 406/10 एवं दूसरी पारी 204/6

मैन ऑफ़ द मैच- निक नाईट