'सूरमा' देखने के वो पांच कारण जो आप में जोश भर देंगे

पंजाबी सिंगर-एक्टर दिलजीत दोसांझ और बॉलीवुड एक्ट्रेस तापसी पन्नू की अपकमिंग फिल्म 'सूरमा' 13 जुलाई को बड़े पर्दे पर रिलीज होने वाली है। फिल्म के रिलीज से पहले ही इस फिल्म को लेकर लोगों में काफी क्रेज देखने को मिल रहा है। लंबे समय से बड़े परदे से दूर चित्रांगदा सिंह इस फिल्म से बतौर निर्माता बॉलीवुड में डेब्यू कर रही है। यह बॉयोग्राफिकल फिल्म हॉकी खिलाड़ी संदीप सिंह के जीवन पर आधारित है। बेशक स्पोर्ट्स बॉयोग्राफिकल फिल्म होने के कारण इस फिल्म में जबरदस्त जोश और जज्बा देखने को मिलेगा। अगर आप इस फिल्म को देखने के लिए अभी-भी असमंजस के हालात से गुजर रहे हैं तो जान लीजिए की आखिर क्यों आपको ये फिल्म देखनी चाहिए...

काल्पनिक नहीं

फिल्म किसी सुपरहीरो की काल्पनिक कहानी पर आधारित नहीं है। यह फिल्म भारतीय हॉकी खिलाड़ी संदीप सिंह की असल जिंदगी पर बनाई गई है। जिसमें संदीप की जिंदगी के उतार चढ़ाव और देश के लिए हॉकी को लेकर उनके जुनून को बखूबी दर्शाया गया है। वहीं इसमें सिनेमा का रुपहला पर्दा जाहिर तौर पर कुछ और नाटकीय पल भी जोड़ता हुआ दिखाई देगा।

कोई घिसी-पिटी कहानी नहीं

फिल्म में नजर आएगा कि किस तरह से अचानक हुई एक घटना के कारण भारतीय हॉकी के बेहतरीन ड्रैग फ्लिकर संदीप के हॉकी करियर का अंत होते हुए दिखाई दे रहा था, लेकिन कहानी में ट्विस्ट यहीं से आता है। संदीप ने किस तरह से अपने हॉकी करियर में फिर वापसी की, यह देखने लायक है। इस फिल्म में संदीप के संघर्ष की कहानी है। हॉकी के साथ जिंदगी के कई उतार चढ़ाव देखने वाले संदीप सिंह को एक बार गोली लग जाती है, जिसके कारण उनके कमर के नीचे के हिस्से को लकवा मार जाता है, लेकिन संदीप हिम्मत नहीं हारते और दो साल बाद फिर से मैदान पर वापसी करते हैं। मैदान से दूर रहने का ये दो साल का सफर किसी भी खिलाड़ी के लिए घोर पीड़ादायक होता है।

हॉकी को करीब से जानने के लिए बेहतर

एक जमाना था जब भारतीय हॉकी का दुनिया में रुतबा था और फिर वो दौर भी आया जब हॉकी सुनहरा अतीत बन गया। मेजर ध्यानचंद के दौर में हॉकी की लोकप्रियता देश में चरम पर थी। अब फिल्म के जरीए एक बार फिर से हॉकी को लेकर लोगों में रुझान लाने की कोशिश की गई है। देश में क्रिकेट को लेकर दीवानगी देखी जाती है लेकिन जब दूसरे खेलों के बारे में बात आती है तो लोगों में कुछ खासी दिलचस्पी नहीं देखी जाती है, लेकिन अब इस फिल्म के जरिए लोग हॉकी को फिर करीब से जान पाएंगे। साथ ही हॉकी में दिलचस्पी जगाने के लिए भी यह फिल्म देखनी चाहिए।

हॉकी और बॉलीवुड का तड़का

हाल के दिनों में स्पोर्ट्स को लेकर काफी बॉयोपिक देखने को मिली है लेकिन इनमें हॉकी को लेकर कुछ भी नहीं था। अब हॉकी से जुड़ी बॉयोपिक फिल्म भी सामने आ गई है। इस फिल्म में अब दर्शकों को हॉकी के साथ बॉलीवुड का तड़का देखने को मिला। ऐसे में सिनामेघरों में जोश और रोमांच दोनों ही भरपूर देखने मिलेंगे। फिल्म में दिलजीत दोसांझ, तापसी पन्नू, अंगद बेदी, विजय राज, सिद्धार्थ शुक्ला और कुलभूषण खरबंदा जैसे सितारे नजर आएंगे।

मोटिवेशन

जाहिर-सी बात है कि स्पोर्ट्स बॉयोपिक होने के चलते फिल्म जोश और जज्बे से भरपूर होगी, लेकिन इसके साथ ही फिल्म जिंदगी की समस्याओं का डटकर सामना करने की भी हिम्मत देती है। अक्सर लोग अपनी जिंदगी मे छोटी-मोटी परेशानी और घटनाओं का भी सामना नहीं कर पाते हैं और आसानी से अपनी समस्याओं के आगे घुटने टेक देते हैं। लेकिन फिल्म 'सूरमा' असल मायने में हर इंसान के खुद के अंदर मौजूद उस सूरमा को पहचनाने में मदद करती है और जो आखिरी सांस तक लड़ने का माद्दा रखता है। संदीप सिंह का जीवन लोगों को मोटिवेट करने के लिए काफी है और यह फिल्म लोगों को बेहतरीन मोटिवेशन देने का काम करेगी।