4 महान कप्तान जो टेस्ट इतिहास में भारतीय धरती पर नहीं जीत पाए एक भी सीरीज

क्रिकेट के खेल में भारत की पिचें किसी चुनौती से कम नहीं है। यहां पिचों पर स्पिन और उछाल देखने को मिलता है। ऐसी परिस्थियों से निपटने के लिए एक संयमित कप्तान की जरूरत होती है, जो टीम का बेहतर नेतृत्व कर टीम को जीत दिला सके। हालांकि भारत के दौर पर बहुत ही कम कप्तानों ने सफलता हासिल की है। आइए यहां जानते हैं उन महान कप्तानों के बारे में जो अपनी कप्तानी में अपने देश को भारत में एक भी टेस्ट सीरीज में नहीं जीता पाए हैं।

रिकी पॉन्टिंग

रिकी पॉन्टिंग ऐसे कप्तान हैं जिनकी कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया ने लगातार दो बार विश्व कप का खिताब जीता है। हालांकि भारत के खिलाफ भारत में टेस्ट सीरीज जीतने के मामले में रिकी पॉन्टिंग नाकाम रहे। रिकी पोंटिंग उन कप्तानों में गिने जाते हैं जिन्होंने अपनी कप्तानी में भारतीय जमीन पर एक भी टेस्ट सीरीज नहीं जीती।

भारतीय जमीन पर ऑस्ट्रेलिया की टेस्ट टीम की कप्तानी करते हुए रिकी पॉन्टिंग ने 7 टेस्ट मैचों की कप्तानी की है। इनमें ऑस्ट्रेलियाई टीम को 5 मैचों में हार का सामना करना पड़ा है और दो टेस्ट मैच ड्रॉ रहे हैं. रिकी पॉन्टिंग की कप्तानी में साल 2008/09 में चार टेस्ट मैचों की सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को 2-0 से सीरीज में हार का सामना करना पड़ा।

वहीं साल 2010 में दो टेस्ट मैचों की सीरीज में 2-0 से फिर हार मिली। इससे पहले साल 2004 में 4 टेस्ट मैचों की सीरीज में से 1 टेस्ट मैच रिकी पोटिंग ने नेतृत्व किया लेकिन उसमें भी टीम को हार का सामना करना पड़ा।

स्टीव वॉ

क्रिकेट की दुनिया में महान कप्तानों का जिक्र हो और स्टीव वॉ का नाम ना आए ऐसा हो नहीं सकता। स्टीव वॉ की कप्तानी शानदार थी। स्टीव वॉ की कप्तानी में कंगारूओं ने लगातार 16 टेस्ट जीत में से 15 में जीत हासिल की थी। लेकिन भारत को भारत में हराने के मामले में वो भी काफी पीछे रहे। स्टीव वॉ की कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया ने भारत में सिर्फ एक टेस्ट सीरीज खेली है। साल 2000/01 में ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच खेली गई बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी काफी रोमांचक सीरीज के तौर पर देखी जाती है। इस सीरीज में दोनों टीमों में हार और जीत का काफी नजदीकी मामला रहा।

तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में स्टीव वॉ की कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया ने पहला टेस्ट मैच मुंबई में 10 विकेट से जीता। हालांकि इसके बाद भारत ने वापसी की। दूसरा टेस्ट कोलकाता में खेला गया जिसमें भारत ने जीत हासिल की। तीसरे और आखिरी टेस्ट मैच में चेन्नई में खेले गए इस टेस्ट में भारत ने जबरदस्त जीत दर्ज की और सीरीज 2-1 से भारत के नाम रही।

स्टीफन फ्लेमिंग

न्यूजीलैंड के स्टीफन फ्लेमिंग का कप्तान के तौर पर रिकॉर्ड काफी अच्छा है। हालांकि स्टीफन फ्लेमिंग अपनी कप्तानी में भारतीय जमीन पर एक भी टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाए हैं। स्टीफन फ्लेमिंग ने भारत के दौरे पर 5 टेस्ट मैचों में कप्तानी है। इनमें से साल 1999 में 3 टेस्ट मैच और साल 2003 में 2 टेस्ट मैचों के लिए न्यूजीलैंड ने भारत का दौरा किया था तब स्टीफन कप्तान थे। दोनों बार वो भारत के खिलाफ भारत में सीरीज जीतने में नाकाम रहे। साल 1999 में 1-0 से सीरीज भारत ने जीती और साल 2003 में टेस्ट मैचों की सीरीज के दोनों टेस्ट ड्रॉ रहे।

ग्रीम स्मिथ

ग्रीम स्मिथ ने अपनी कप्तानी में दक्षिण अफ्रीका को 53 टेस्ट मैचों में जीत दिलाई है। हालांकि भारत में टेस्ट सीरीज जीत के मामले में ग्रीम स्मिथ काफी फिसड्डी रहे। उन्होंने साल 2004, 2008 और 2010 में भारत का दौरा करने वाली दक्षिण अफ्रीका की टेस्ट टीम का नेतृत्व किया था। इनमें दक्षिण अफ्रीका को साल 2004 में खेली गई टेस्ट सीरीज में हार मिली थी तो वहीं साल 2008 और 2010 की टेस्ट सीरीज ड्रॉ रही थी। भारत के खिलाफ खेले गए 7 टेस्ट मुकाबलों में ग्रीम स्मिथ ने भारतीय जमीन पर दक्षिण अफ्रीका की कप्तानी की और अपनी टीम को सिर्फ एक मैच में ही जीत दिला पाए थे। इसके अलावा दो मैच ड्रॉ हुए और दो मैचों में दक्षिण अफ्रीका को हार का मुंह देखना पड़ा।