क्रिकेट के 10 शानदार रिकॉर्ड जो हैं भारतीय खिलाड़ियों के नाम

भारत में क्रिकेट को जो स्थान प्राप्त है वो दुनिया के किसी भी देश में नहीं है। यहां क्रिकेट सिर्फ एक खेल न रहकर धर्म बन चुका है। यही वजह है कि भारत ने क्रिकेट को कई ऐसे दिग्गज खिलाड़ी दिए हैं जिन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ढ़ेरों रिकार्ड्स बनाए हैं। ये रिकार्ड्स इतने लाजवाब हैं कि इन्हें भूल पाना मुम्किन नहीं। आईए नजर डालते हैं भारतीय खिलाड़ियों द्वारा बनाए गए कुछ ऐसे ही रिकार्ड्स पर :


सचिन तेंदुलकर के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सौ शतक : बात जब क्रिकेट के रिकार्ड्स की हो और सचिन तेंदुलकर का उसमें नाम न आए, ये शायद मुम्किन नहीं। जब भी हम क्रिकेट के रिकार्ड्स की बात करेंगे उसमें सचिन के अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सौ शतकों का ज्रिक जरूर होगा। इसके अलावा सचिन अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी भी हैं। इतना ही नहीं 200 टेस्ट मैच खेलने वाले वो एकलौते खिलाड़ी हैं।


युवराज द्वारा जड़े गए एक ओवर में 6 छक्के : 2007 टी-20 विश्व कप में भारत बनाम इंग्लैंड मुकाबला और स्टुअर्ट ब्रार्ड के ओवर में स्ट्राइक पर सामने खड़े युवराज सिंह। ये द्रश्य सभी भारतीय क्रिकेट प्रेमियों के दिल में बसा हुआ है। जी हॉ, हम बात कर रहे हैं युवराज सिंह के 6 गेंदों पर 6 छक्को के रिकार्ड की। इसी मैच में युवराज ने टी20 क्रिकेट का सबसे तेज अर्धशतक भी बनाया था। इस मैच में इन्होंने मात्र 12 गेंदों पर अपना अर्धशतक पूरा किया था जो अंतर्राष्ट्रीय टी-20 क्रिकेट में आज भी सबसे तेज अर्धशतक है।


अनिल कुंबले के एक पारी के 10 विकेट लेना : भारत के लेग स्पिनर अनिल कुंबले ने टेस्ट क्रिकेट में एक पारी के पूरे के पूरे 10 विकेट लेने का रिकार्ड अपने नाम किया हुआ है। उन्होंने ये कारनामा 7 फरवरी 1999 को पाकिस्तान के खिलाफ दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर खेले गए टेस्ट मैच में किया था। उस मैच में पाकिस्तान की दूसरी पारी के 10 विकेट चटकाकर कुंबले ने अपना नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज करवा लिया। उनकी शानदार गेंदबाजी की बदौलत उस मैच में भारत ने पाकिस्तान को 212 रनों से मात दी थी। आपको बता दें इससे पहले एक पारी में 10 विकेट झटकने का रिकॉर्ड सिर्फ जिम लेकर के नाम था।


बापू नादकर्णी का टेस्ट क्रिकेट में लगातार सबसे ज्यादा मेडन ओवर फेंकने का रिकॉर्ड : भारत के बाएं हाथ के स्पिनर बापू नादकर्णी को क्रिकेट इतिहास के सबसे कंजूस गेंदबाजों में गिना जाता है। नादकर्णी ने इंग्लैंड के खिलाफ 1963 में लगातार 21 मेडन ओवर डाले थे। उन्होंने अपने इस स्पेल में लगातार 131 डॉट बॉल फेंकी थी। उन्होने 32 ओवर में 27 मेडन सहित सिर्फ 5 रन खर्च किए थे।


पदार्पण खिलाड़ी के रूप में अजहरूद्दीन के 3 टेस्ट में 3 शतक : टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करते हुए शतक जड़ना किसी भी बल्लेबाज के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि होती है। मगर अपने पहले तीन टेस्ट मैचों में षतक लगाने की कल्पना तो शायद बल्लेबाज सपने में भी नहीं कर सकता। लेकिन भारत के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरूद्दीन ने ये कारनामा कर दिखाया है। जी हॉ, अजहर ने 1984 में इंग्लैंड के खिलाफ अपने पहले तीन टेस्ट मैचों में तीन शतक लगाकर अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में शानदार आगाज किया था।


वीरेंद्र सहवाग का टेस्ट में सबसे तेज तिहरा शतक : वीरेंद्र सहवाग भारत के अकेले ऐसे बल्लेबाज रहे हैं जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में तिहरा शतक जड़ा है। उन्होंने ये कारनामा एक बार नहीं बल्कि दो बार किया है। लेकिन यहां हम बात कर रहे हैं टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज तिहरे शतक की। इस मामले में भी इस विस्फोटक बल्लेबाज का नाम सबसे ऊपर आता है। सहवाग के नाम टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज तिहरा शतक बनाने का रिकॉर्ड दर्ज है। साल 2008 में सहवाग ने चेन्नई में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ केवल 278 गेंदों पर तिहरा शतक लगाकर टेस्ट इतिहास का सबसे तेज तिहरा शतक बनाया था।


कप्तान के तौर पर धोनी का आईसीसी खिताब जीतना : महेंद्र सिंह का शुमार क्रिकेट इतिहास के सबसे सफल कप्तानों में किया जाता है। ये वही कप्तान है जिसकी कप्तानी में भारत ने आईसीसी की सभी प्रमुख ट्रॉफियों पर अपना कब्जा जमाया। फिर बात चाहे 2007 टी-20 विश्व कप की हो, 2011 विश्व कप या फिर 2013 चैंपियंस ट्रॉफी की। इन सभी खिताबों को टीम इंडिया ने धोनी की ही कप्तानी में जीता है। ऐसे में ये कहना गलत न होगा कि इन्होंने आईसीसी के सभी टूर्नामेंट अपनी कप्तानी में जीते हैं। ऐसा करने वाले ये दुनिया के एकलौते कप्तान हैं।


रोहित शर्मा के वनडे क्रिकेट में दो दोहरे शतक : एकदिवसीय क्रिकेट में जहां कई दिग्गज बल्लेबाजों के नाम एक भी दोहरा शतक नहीं होता वहीं भारत के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा दुनिया के एकलौते ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने वनडे में दो दोहरे शतक लगाए हैं। उन्होंने अपना पहला दोहरा शतक साल 2013 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बेंग्लूरू के मैदान पर जड़ा था जबकि उनके बल्ले से दूसरा दोहरा षतक साल 2014 में श्रीलंका टीम के खिलाफ कोलकाता के ईडेन गार्डन्स के मैदान पर निकला। उस मैच में उन्होंने 264 रनों की विषाल पारी खेली थी जो किसी भी बल्लेबाज द्वारा वनडे क्रिकेट का सर्वाधिक स्कोर भी है।


टेस्ट क्रिकेट में द्रविड़ ने खेली है सबसे ज्यादा गेंदे : भारत की दीवार के नाम से मशहूर दिग्गज बल्लेबाज राहुल द्रविड़ टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा गेंद खेलने वाले बल्लेबाज हैं। अपने टेस्ट करियर के दौरान उन्होंने 164 टेस्ट मैचों मेंं कुल 31258 गेंदें खेलीं हैं जो एक विश्व रिकार्ड है।


रहाणे द्वारा एक टेस्ट में सबसे ज्यादा कैच लपकने का रिकार्ड : किसी एक टेस्ट मैच में सबसे ज्यादा कैच लपकने का रिकार्ड भारत के अजिंक्य रहाणे के नाम है। साल 2015 में श्रीलंका के खिलाफ गाले में हुए टेस्ट मैच में रहाणे ने कुल 8 कैच लपके थे जो कि एक विश्व रिकार्ड है।